नया टूल पदार्थ की मल्टीी-फेज अलॉय, कंपोजिट और मल्टीा-लेयर्ड कोटिंग जैसे पदार्थ के नैनोमैकेनिकल गुणों को मैप कर सकत

Times India Today | : Apr 23,2020 03:59 PM IST

भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के तहत स्‍वायत्‍त संस्‍थान इंटरनेशनल एडवांस्ड रिसर्च सेंटर फॉर पाउडर मैटलर्जी एंड न्‍यू मैटेरियल्‍स (एआरसीआई) के वैज्ञानिकों ने अमेरिका के ओक रिज की नैनो मैकेनिक्‍स इंक के साथ मिलकर मल्‍टी-फेज अलॉय, कंपोजिट और मल्‍टी-लेयर कोटिंग जैसे पदार्थ के नैनोमैकेनिकल गुणों को मैप करने के लिए एक नया टूल विकसित किया है।



नैनो ब्लिट्ज 3डी नामक इस टूल को ग्लास-फाइबर से प्रबलित बहुलक कंपोजिट, दोहरे फेज वाले स्टील्स, सॉफ्टवुड और शेल सहित विभिन्‍न प्रकार के पदार्थों की एक व्‍यापक शृंखला के लिए उत्कृष्ट परिणाम देने के लिए भी समर्थ पाया गया है। इस तकनीक का एक महत्वपूर्ण पहलू इसकी हाई-थ्रूपुट है, जिसमें कुछ घंटों के परीक्षणके लिए 10,000 से अधिक डेटा बिंदु उत्पन्न करने की आवश्यकता होती है। इसे मशीन लर्निंग (एमएल) एल्गोरिदम का उपयोग करके प्रॉसेस किया जा सकता है।



यह एक बड़ी व्‍यूह रचना के प्रदर्शन को समर्थ करता हैजिसमें आमतौर पर 1,000 हाईस्‍पीड नैनो-इंडेंटेशन परीक्षण शामिल होते हैं। इसमें प्रत्येक इंडेंटेशन परीक्षण दिए गए किसी पदार्थ की कठोरता और लोचदार को मापने के लिए एक सेकंड से भी कम समय लगता है। इसके अलावायह उन्नत डेटा विश्लेषण को पूरा करने की क्षमता प्रदान करता हैजैसे घटक चरणों के मैकेनिकल गुणों को पहचानना और उसकी मात्रा बताना, मल्‍टीफेज ऑय, कंपोजिट, मल्‍टीलेयर कोटिंग की विशेषताओं को पहचानना आदि।



इस टूल की हाईस्‍पीड मैपिंग क्षमताओं का उपयोग माइक्रो-मीटर लंबाई अथवा इससे बड़े पैमाने पर संरचना के गुणों का तेजी से संबंध स्थापित करने के लिए भी किया जा सकता है। यह मल्टीस्केल मैकेनिक्स को समझने और पदानुक्रमित पदार्थों के विकास में सहायता कर सकता है। साथ ही इससे इंटीग्रेटेड कम्प्यूटेशनल मैटेरियल इंजीनियरिंग (आईसीएमई) दृष्टिकोण के तहत जबरदस्‍त प्रदर्शन वाले नए पदार्थों के विकास में तेजी आएगी।

Comments 0

You May Like

Copyright © 2020 - All Rights Reserved - Times Today